Wednesday, May 3, 2017

लघु विज्ञान कथा - जीत

‘‘जिस पड़ोसी से हमारा युद्ध हो रहा है वह टेक्नालाॅजी में हमसे बहुत आगे हो चुका है। उसके पास अपने देश के हर नागरिक का बायोमीट्रिक रिकार्ड है। और हम इस तरह के मामलों में बहुत पीछे हो चुके हैं। ऐसे में हम उसे कैसे हरा सकते हैं जनरल?’’ उस चपटी नाक वाले तानाशाह ने गुस्से के साथ हाथ मलते हुए अपने जनरल को देखा।
‘‘योर एक्सीलेंसी।’’ जनरल ने तानाशाह के सामने अपना सर झुकाया, ‘‘हम उस देश को जीत चुके हैं।’’
’’व्हाट! क्या कह रहे हो?’’ तानाशाह चौंक कर बोला।
‘‘योर एक्सीलेंसी। दरअसल उस देश के तमाम नागरिकों का बायोमीट्रिक रिकार्ड हमने हैक कर लिया। और अभी हमारे मानव किलर ड्रोन मिसाईलों ने उसी आधार पर चुन चुनकर उस देश के एक एक नागरिक को मौत के घाट उतार दिया है।’’
जनरल की बात सुनकर तानाशाह के चेहरे पर सुकून का सूरज जगमगा उठा था।

2 comments:

विकास नैनवाल said...

भयावह कल्पना. लेकिन ऐसा होना मुमकिन है.

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ’देश के दुश्मन - बाहर भी, भीतर भी : ब्लॉग बुलेटिन’ में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...