Wednesday, November 11, 2009

दिनांक 3-11-2009 को मंचित कॉमेडी साइंस फिक्शन ड्रामा



कुछ झलकियाँ


नाटक के कुछ दृश्य







2 comments:

seema gupta said...

झलकियाँ अच्छी लगी आभार

regards

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

जीशान भाई, इन तस्वीरों को देखकर प्ले में न आने का दुख बढ गया है।
हार्दिक शुभकामनाएं।
--------
बहुत घातक है प्रेमचन्द्र का मंत्र।
हिन्दी ब्लॉगर्स अवार्ड-नॉमिनेशन खुला है।