Tuesday, December 30, 2008

ताबूत - एपिसोड 39

"ओ चीन्तिलाल, तुम लोग तो इस यातिकम को बहुत तेज़ चलाने लगे. कहीं यह किसी से टकरा न जाए." मारभट ने पीछे देखे बिना कहा. जब पीछे से कोई जवाब न आया तो उसने मुड़कर देखा, "अरे वे लोग कहाँ चले गए?"
सियाकरण ने भी पीछे मुड़कर देखा. फ़िर किसी को न पाकर उनके मुंह खुले रह गए.
"वे लोग कहाँ गए? और यह यटिकम कैसे चल रही है?" सियाकरण ने हैरत से कहा.
"यह तो बाद में सोचना कि यह कैसे चल रही है. पहले इसे रोको वरना सामने जो बड़ी यटिकम है उससे यह टकरा जायेगी." सामने से आ रही एक मिनी बस को देखकर मारभट ने कहा.
"किंतु जब तक यह न मालुम हो जाए कि यह कैसे चल रही है, हम इसको कैसे रोक सकते हैं?"
---------------

"कंडक्टर जी, ज़रा माचिस देना बीड़ी सुलगानी है." बस के ड्राइवर ने पीछे सर घुमाकर कहा.
"दे रहा हूँ. किंतु तुम सामने देखो वरना कोई एक्सीडेंट कर बैठोगे." कंडक्टर ने जेब से माचिस निकालते हुए कहा.
"अरे मैं पिछले बीस सालों से बस चला रहा हूँ. अब तो आँख बंद करके भी बस चला दूँ तो यह सरपट अपने रास्ते पर दौड़ पड़ेगी...........!" ड्राइवर अकड़ कर बोला. उसी समय उसकी दृष्टि सामने पड़ी.
"अरे बाप रे. .....यह कौन पागल कार चला रहा है." उसने जल्दी से बस किनारे की और प्राचीन युगवासियों की कार बस से रगड़ खाती हुई निकल गई.
बचते बचते भी बस एक पेड़ से हलकी सी टकरा गई थी. और अब पेड़ पर निवास करने वाले कौवे चीख चीख कर बस के ड्राइवर को कोस रहे थे.
--------------

ये लोग जितना कार को रोकने का प्रयत्न कर रहे थे उतनी ही कार की गति बढती जा रही थी. क्योंकि मारभट का पैर एक्सीलरेटर पर से हट ही नहीं रहा था.
"जब तक हमें यह न मालूम हो जाए की इस यटिकम के यल कहाँ हैं, हम इसको नहीं रोक सकते." सियाकरण ने कहा.
"इसके यल लगता है आगे अन्दर छुपे बैठे हैं." मारभट ने कार के बोनट की ओर संकेत किया.
फ़िर इन्होंने बोनट के अन्दर छुपे बैलों को पुचकारना शुरू कर दिया, किंतु वे उसी तरह अड़ियल रूख अपनाए रहे और कार अपनी गति से भागती रही. इस सड़क पर अधिकतर सन्नाटा रहता था वरना अब तक कई एक्सीडेंट हो चुके होते.
--------------

इंसपेक्टर शेरखान अपनी मोटरसाइकिल पर 'चीनी भगोड़ों' को ढूंढते ढूंढते बहुत दूर निकल आया था. फ़िर अचानक उसकी मोटरसाइकिल बंद हो गई. उसने पेट्रोल बताने वाली सुई पर नज़र डाली तो वह शून्य पर रुकी थी.
"ओह, न जाने मेरी भूलने वाली आदत कब जायेगी. मुझे आज पेट्रोल डलवाना था. अब क्या करुँ." तभी उसे सामने से एक कार तेज़ गति से आती दिखाई दी.
"ओह! वह कार तो बहुत तेज़ आ रही है. मैं अपनी मोटरसाइकिल किनारे कर लूँ." वह नीचे उतर कर मोटरसाइकिल किनारे करने लगा. लेकिन उससे पहले ही कार पूरी स्पीड के साथ मोटरसाइकिल से आकर टकरा गई. वह तो छिटक कर दूर जा गिरा और मोटरसाइकिल हवा में कलाबाजियां खाती हुई कार की पिछली सीट पर जाकर विराजमान हो गई.
"अरे मेरी मोटरसाइकिल लेकर चोर भाग रहे हैं. कोई पकडो उन्हें." वह चीखता हुआ कार के पीछे भागा. फ़िर चौंक पड़ा, "मैंने शायद इन लोगों को कहीं देखा है. याद आया, ये तो वही चीनी भगोडे हैं. उन्हें तो तुंरत पकड़ना चाहिए. मेरी मोटरसाइकिल कहाँ गई." वह इधर उधर अपनी मोटरसाइकिल देखने लगा और जब उसे याद आया की मोटरसाइकिल भी उन लोगों के साथ चली गई तो वह अपना सर पकड़कर वहीँ बैठ गया.
-------------

3 comments:

विनय said...

नववर्ष की हार्दिक मंगलकामनाएँ!

zeashan zaidi said...

vinay ji aapko aur sabhi paathakon/Bloggers ko nauwarsh ki shubhkaamnayen.

नीरज गोस्वामी said...

नव वर्ष की आप और आपके समस्त परिवार को शुभकामनाएं....
नीरज